Home व्रत और त्यौहार संतान सप्तमी पूजा विधि | Santan Saptami Puja Vidhi

संतान सप्तमी पूजा विधि | Santan Saptami Puja Vidhi

156
0
SHARE

संतान सप्तमी पूजा विधि | Santan Saptami Puja Vidhi

santan saptami puja vidhi,santan saptami,puja vidhi,puja,vidhi,संतान सप्तमी पूजा विधि,संतान सप्तमी,पूजा विधि,पूजा,विधि

Santan Saptami Puja Vidhi :- संतान सप्तमी व्रत भादो महीने की शुक्लपक्ष की सप्तमी को किया जाता है। यह व्रत संतान की प्राप्ति, उसकी कुशलता और उन्नति के लिए किया जाता है। जानिए संतान सप्तमी का व्रत करने की विधि –

संतान सप्तमी के दिन सुबह ज्ल्दी उठकर, स्नानादि करके स्वच्छ कपड़े पहनें और भगवान शिव और मां गौरी के समक्ष प्रणाम कर व्रत का संकल्प लें।

अब अपने व्रत की शुरुआत करें और निराहार रहते हुए शुद्धता के साथ पूजन का प्रसाद तैयार कर लें। इसके लिए खीर-पूरी व गुड़ के 7 पुए या फिर 7 मीठी पूरी तैयार कर लें।

यह पूजा दोपहर के समय तक कर लेनी चाहिए। पूजा के लिए धरती पर चौक बनाकर उस पर चौकी रखें और उस पर शंकर पार्वती की मूर्ति स्थापित करें।

अब कलश स्थापित करें, उसमें आप के पत्तों के साथ नारियल रखें। दीपक जलाएं और आरती की थाली तैयार कर लें जिसमें हल्दी, कुंकुम, चावल, कपूर, फूल, कलावा आदि अन्य सामग्री रखें।

अब 7 मीठी पूड़ी को केले के पत्ते में बांधकर उसे पूजा में रखें और संतान की रक्षा व उन्नति के लिए प्रार्थना करते हुए पूजन करते हुए भगवान शिव को कलावा अर्पित करें।

पूजा करते समय सूती का डोरा या चांदी की संतान सप्तमी की चूडी हाथ में पहननी चाहिए। यह व्रत माता -पिता दोनो भी संतान की कामना के लिए कर सकते हैं।

पूजन के बाद धूप, दीप नेवैद्य अर्पित कर संतान सप्तमी की कथा पढ़ें या सुनें और बाद में कथा की पुस्तक का पूजन करें।

व्रत खोलने के लिए पूजन में चढ़ाई गई मीठी सात पूड़ी या पुए खाएं और अपना व्रत खोलें।

आशा है कि आप सभी को यह संतान सप्तमी पूजा विधि , Santan Saptami Puja Vidhi का लेख पसंद आया होगा| इस आर्टिकल को अधिक से अधिक फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर करें और आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताये| इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें|

अन्य पढ़े :-
श्री वैभव लक्ष्मी व्रत कथा |Shri Vaibhav Laxmi Vrat Katha
Tulsi Vivah Katha | तुलसी विवाह कथा
करवा चौथ व्रत की सम्पूर्ण पूजन विधि

पूजा में आरती करने की सही विधि, Aarti Kaise Kare

हरतालिका तीज व्रत कथा | Hartalika Teej Vrat Katha

महालक्ष्मी व्रत कथा | Mahalaxmi Vrat Katha

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here