Home हेल्थ सहजन में 300 रोगों को दूर करने की ताकत है | Sahjan...

सहजन में 300 रोगों को दूर करने की ताकत है | Sahjan ke fayde

146
0
SHARE

सहजन में 300 रोगों को दूर करने की ताकत है | Sahjan ke fayde

सहजन के फायदे, Sahjan ke fayde, sahjan ke nuksan, sahjan benefits, sahjan side effects, munaga, moringa

Sahjan ke fayde : सेंजन (मुनगा) या सहजन आदि नामों से जाना जाने वाला सहजन औषधीय गुणों से भरपूर होता है। आयुर्वेद में सहजन से 300 रोगों का उपचार संभव है। सहजन की जड़ से लेकर फूल, पत्ती, फली, तना, गोंद हर चीज उपयोगी होती है। स्वास्थ्य के हिसाब से इसकी फली, हरी और सूखी पत्तियों में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन-A , विटामिन-C और विटामिन-B- काम्प्लेक्स प्रचुर मात्रा में पाया जाता हैं। इनका सेवन कर कई बीमारियों को बढ़ने से रोका जा सकता है| इसमें 92 तरह के मल्टीविटामिन्स, 46 तरह के एंटीआक्सीडेंट गुण, 36 तरह के दर्द निवारक और 18 तरह के एमिनो एसिड पाये जाते हैं। चारे के रूप में इसकी पत्तियों के प्रयोग से पशुओं के दूध में डेढ़ गुना और वजन में एक तिहाई से अधिक की वृद्धि होती है, ऐसा कहा जाता हैं कि इतने गुणों के होते हुये सहजन किसी चमत्कार से कम नहीं है। सहजन को अंग्रेजी में ड्रमस्टिक (Drumstik) कहा जाता है। इसका वनस्पति नाम मोरिंगा ओलिफेरा (Moringa Olifera) है। फिलीपीन्स, मैक्सिको, श्रीलंका, मलेशिया आदि देशों में भी सहजन का उपयोग बहुत अधिक किया जाता है। भारत में व्यंजनों में इसका उपयोग खूब किया जाता है।

सहजन के पौष्टिक गुणों की तुलना :-

आइये देखते हैं कि यदि अगर सहजन के गुणों की तुलना अन्य फलों, सब्जिओं एवं पौष्टिक तत्वों से की जाती हैं तो उसका परिणाम क्या निकलता हैं :-

विटामिन-A :- गाजर से चार गुना अधिक

विटामिन-C :- संतरे से सात गुना अधिक

कैलशियम :- दूध से चार गुना अधिक

पोटेशियम :- केले से तीन गुना अधिक

प्रोटीन :- दही की तुलना में तीन गुना अधिक।

सहजन खाने के फायदे और उपयोग (Sahjan ke fayde):-

सहजन में अधिक मात्रा में ओलिक एसिड होता है, जोकि एक प्रकार का मोनोसैच्युरेटेड फैट है और यह शरीर के लिए अति आवश्यक है। सहजन में विटामिन-सी की मात्रा बहुत होती है। यह शरीर के कई रोगों से लड़ता है। सहजन में कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है, जिससे हड्डियां मजबूत बनती हैं। इसका जूस गर्भवती को देने की सलाह दी जाती है, इससे डिलवरी में होने वाली समस्या से राहत मिलती है और डिलवरी के बाद भी मां को तकलीफ कम होती है, गर्भवती महिला को इसकी पत्तियों का रस देने से डिलीवरी में आसानी होती है। सहजन का सूप पीना सबसे अधिक फायदेमंद होता है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है। विटामिन सी के अलावा यह बीटा कैरोटीन, प्रोटीन और कई प्रकार के लवणों से भरपूर होता है, यह मैगनीज, मैग्नीशियम, पोटैशियम और फाइबर से भरपूर होते हैं। यह सभी तत्व शरीर के पूर्ण विकास के लिए बहुत जरूरी हैं। आइये जानते हैं कि सहजन के पेड़ का उपयोग कैसे करें :-

1. सहजन की फली:-

सहजन की फली बहुत फायदेमंद होती हैं। इसका उपयोग करने से वात और उदरशूल जैसे रोग सही होते हैं। इसी प्रकार अगर यदि हम फली की सब्जी बनाकर उसका सेवन करते हैं तो गुर्दे और मूत्राशय की पथरी कटकर निकल जाती है। साथ ही पुरानी गठिया, जोड़ों का दर्द, वायु संचय,वात रोग जैसे रोगों में भी लाभ होता है।

2. सहजन का फूल :-

सहजन का फूल चमत्कारी गुणों से कम नहीं होता हैं। यदि हम सहजन के फूल के सेवन पीस कर करते हैं तो पेट और कफ में होने वाले भयानक रोगों से निजात पा सकते हैं।

3. सहजन की छाल :-

सहजन की छाल अत्यधिक गुणकारी होती हैं। सहजन की छाल में शहद मिलाकर पीने से वात और कफ जैसे रोग खत्म हो जाते हैं। साथ ही यह साइटिका, गठिया, लीवर में लाभकारी होती हैं। यदि अगर सहजन की छाल का काढ़ा बनाकर उससे कुल्ला करें तो मुँह के समस्त कीड़े नष्ट हो जाते हैं और मुँह में होने वाले किसी भी प्रकार के दर्द में राहत मिलती हैं।

4. सहजन की पत्ती :-

सहजन की पत्ती को तो जैसे वरदान ही प्राप्त हैं ज्यादा से ज्यादा रोगों को ठीक करने का, अगर सहजन की पत्ती का काढ़ा बनाकर पिया जाये तो नेत्ररोग, गठिया, साइटिका, वायु विकार में शीघ्र लाभ पहुंचता है और अगर सहजन की पत्ती की लुगदी को सरसों के तेल में डालकर आँच पर पकाये और उसे मोंच के स्थान पर लगाये तो जल्द ही लाभ मिलने लगता हैं। सहजन के ताजे पत्तों का रस कान में डालने से कान का दर्द ठीक हो जाता हैं। सहजन के ताजे पत्तों का रस पेट से कीड़े निकालने के साथ-साथ मोटापा भी धीरे-धीरे कम करता हैं और उल्टी-दस्त भी रोकता है। सहजन के पत्तों का साग कब्ज दूर करता हैं। सहजन के ताजे पत्तों को पीसकर लगाने से घांव और सूजन ठीक होते हैं।

5. सहजन की जड़ :-

सहजन की जड़ की छाल का काढ़ा सेंधा नमक और हींग डालकर पीने से पित्ताशय की पथरी और मिर्गी के दौरों में लाभ होता है। कैंसर तथा शरीर के किसी हिस्से में बनी गांठ, फोड़ा आदि में सहजन की जड़ का अजवाइन, हींग और सौंठ के साथ काढ़ा बनाकर पीने का प्रचलन है। यह काढ़ा साइटिका (पैरों में दर्द), जोड़ों में दर्द, लकवा, दमा, सूजन, पथरी आदि में भी लाभकारी है|

6. सहजन का बीज :-

सहजन के बीज से पानी को काफी हद तक शुद्ध करके पेयजल के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसके बीज को चूर्ण के रूप में पीसकर पानी में मिलाया जाता है। पानी में घुल कर यह एक प्रभावी नेचुरल क्लोरीफिकेशन एजेंट बन जाता है। यह न सिर्फ पानी को बैक्टीरिया रहित बनाता है, बल्कि यह पानी की सांद्रता को भी बढ़ाता है।

7. सहजन का गोंद :-

सहजन का गोंद जोड़ों के दर्द तथा दमा आदि रोगों में लाभदायक माना जाता है। आज भी ग्रामीणों की ऐसी मान्यता है कि सहजन के प्रयोग से वायरस से होने वाले रोग, जैसे चेचक आदि के होने का खतरा टल जाता है।

सहजन खाने के नुकसान :-

वैसे तो सहजन इस दुनिया में संजीवनी बूटी के बाद दूसरा ऐसा पेड़ हैं जो कि इंसानो को बहुत से रोगों से मुक्त कराता हैं लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं। तो आइये जानते हैं कि सहजन के पेड़ के क्या नुकसान हैं :-

1. मासिक धर्म के इसका उपयोग नहीं करना चाहिये क्योंकि यह पित्त बढ़ाता हैं।

2. ब्लीडिंग डिसऑर्डर के दौरान इसको लेना अच्छा नहीं माना जाता हैं।

3. प्रसव के तुरंत बाद इसका सेवन नहीं करना चाहिये, हालांकि प्रसव के कुछ हफ्ते बाद यह प्रयोग किया जा सकता हैं।

4. यह जलन में वृद्धि का कारण बनता हैं इसलिए संवेदनशील पेट वाले लोगों का इसका उपयोग अधिक नहीं करना चाहिये।

5. सहजन फल प्रोटीन, विटामिन्स, खनिज और एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर हैं इसलिए इसको गर्भावस्था के दौरान इस्तेमाल किया जा सकता हैं, लेकिन सहजन के पत्ते, जड़ की छाल और फूलों को गर्भावस्था के दौरान नहीं लेना चाहिये।

आशा है कि आप सभी को सहजन के फायदे, Sahjan ke fayde का यह लेख पसंद आया होगा| इस आर्टिकल को अधिक से अधिक फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर करें और आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताये| इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें|

अन्य पढ़े :-

तरबूज के फायदे और नुकसान | Tarbooj khane ke fayde aur nuksan

कैल्शियम की कमी के कारण, लक्षण और उपाय | calcium ki kami ko kaise door kare

शहद के 10 बेमिसाल फायदे जानकर दंग रह जायेंगे आप

ज्यादा पपीता खाने के नुकसान जानकर हो जायेंगे हैरान, Papita Khane Ke Nuksaan

रोजाना बादाम खाने के ये 10 फायदे जानकर दंग रह जायेंगे आप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here