Home व्रत और त्यौहार Pitru Paksh Ki Katha | पितृ पक्ष की पौराणिक कथा

Pitru Paksh Ki Katha | पितृ पक्ष की पौराणिक कथा

192
0
SHARE

Pitru Paksh Ki Katha | पितृ पक्ष की पौराणिक कथा

Pitru Paksh Ki Katha : श्रीकृष्ण भगवान ने कहा है कि आत्मा कभी मरती नहीं, ये बस एक शरीर से दूसरे शरीर में बदलती है। इसलिये आप अपने पूर्वजों को जब भी कुछ अर्पित करते हो तो वो उन्हें मिलता है। दानवीर कर्ण, जिनके नाम के आगे ही दानवीर था उन्होंने पूरी उम्र बहुत दान दिया। जो भी उनसे कुछ मांगता वो उसे जरूर मिलता। कर्ण जब परलोक गए तो वहां उन्हें वो कुछ दोगुना दिया गया जो कि उन्होंने दान किया था, लेकिन वो सब हीरे, जवाहरात और सोना चांदी थे। कर्ण को खाने को कुछ नहीं मिला क्योंकि उन्होंने कभी भोजन दान नहीं किया था। कर्ण भूख से व्याकुल हो गए। अंत में यमराज की विनजी करके धरती पर जाकर फिर से दान करने की आज्ञा मांगी। यमराज ने कर्ण को 14 दिनों का वक्त दिया। कर्ण ने धरती पर आकर जमकर भोजन दान किया और श्राद्ध किया। जब कर्ण परलोक वापस आया तो उसके पास खाना पहुंच चुका था।
इसलिये हिंदुओं में भोजन दान करना बहुत शुभ माना गया है। श्राद्धों के दौरान तो गरीबों को भोजन खिलाना ही चाहिए। इसके जरिये हमारे पुर्वजों को सीधे ये पहुंच जाता है। कहा जाता है कि इन दिनों यमराज की आज्ञा से आत्माएं ज़मीन पर आती हैं और अपने वंशजों की ओर से अर्पित किये गए भोजन का भोग करती हैं।

श्राद्ध की पौराणिक कथा (Shradh Ki Katha)

पितृ पक्ष की पौराणिक कथा के अनुसार जोगे तथा भोगे दो भाई थे। दोनों अलग-अलग रहते थे। जोगे धनी था और भोगे निर्धन। दोनों में परस्पर बड़ा प्रेम था। जोगे की पत्नी को धन का अभिमान था, किंतु भोगे की पत्नी बड़ी सरल हृदय थी।
पितृ पक्ष आने पर जोगे की पत्नी ने उससे पितरों का श्राद्ध करने के लिए कहा तो जोगे इसे व्यर्थ का कार्य समझकर टालने की चेष्टा करने लगा, किंतु उसकी पत्नी समझती थी कि यदि ऐसा नहीं करेंगे तो लोग बातें बनाएंगे। फिर उसे अपने मायके वालों को दावत पर बुलाने और अपनी शान दिखाने का यह उचित अवसर लगा।
अतः वह बोली- ‘आप शायद मेरी परेशानी की वजह से ऐसा कह रहे हैं, किंतु इसमें मुझे कोई परेशानी नहीं होगी। मैं भोगे की पत्नी को बुला लूंगी। दोनों मिलकर सारा काम कर लेंगी।’ फिर उसने जोगे को अपने पीहर न्यौता देने के लिए भेज दिया।
दूसरे दिन उसके बुलाने पर भोगे की पत्नी सुबह-सवेरे आकर काम में जुट गई। उसने रसोई तैयार की। अनेक पकवान बनाए फिर सभी काम निपटाकर अपने घर आ गई। आखिर उसे भी तो पितरों का श्राद्ध-तर्पण करना था।
इस अवसर पर न जोगे की पत्नी ने उसे रोका, न वह रुकी। शीघ्र ही दोपहर हो गई। पितर भूमि पर उतरे। जोगे-भोगे के पितर पहले जोगे के यहां गए तो क्या देखते हैं कि उसके ससुराल वाले वहां भोजन पर जुटे हुए हैं। निराश होकर वे भोगे के यहां गए। वहां क्या था? मात्र पितरों के नाम पर ‘अगियारी’ दे दी गई थी। पितरों ने उसकी राख चाटी और भूखे ही नदी के तट पर जा पहुंचे।
थोड़ी देर में सारे पितर इकट्ठे हो गए और अपने-अपने यहां के श्राद्धों की बढ़ाई करने लगे। जोगे-भोगे के पितरों ने भी अपनी आपबीती सुनाई। फिर वे सोचने लगे- अगर भोगे समर्थ होता तो शायद उन्हें भूखा न रहना पड़ता, मगर भोगे के घर में तो दो जून की रोटी भी खाने को नहीं थी। यही सब सोचकर उन्हें भोगे पर दया आ गई। अचानक वे नाच-नाचकर गाने लगे- ‘भोगे के घर धन हो जाए। भोगे के घर धन हो जाए।’
सांझ होने को हुई। भोगे के बच्चों को कुछ भी खाने को नहीं मिला था। उन्होंने मां से कहा- भूख लगी है। तब उन्हें टालने की गरज से भोगे की पत्नी ने कहा- ‘जाओ! आंगन में हौदी औंधी रखी है, उसे जाकर खोल लो और जो कुछ मिले, बांटकर खा लेना।’
बच्चे वहां पहुंचे, तो क्या देखते हैं कि हौदी मोहरों से भरी पड़ी है। वे दौड़े-दौड़े मां के पास पहुंचे और उसे सारी बातें बताईं। आंगन में आकर भोगे की पत्नी ने यह सब कुछ देखा तो वह भी हैरान रह गई।
इस प्रकार भोगे भी धनी हो गया, मगर धन पाकर वह घमंडी नहीं हुआ। दूसरे साल का पितृ पक्ष आया। श्राद्ध के दिन भोगे की स्त्री ने छप्पन प्रकार के व्यंजन बनाएं। ब्राह्मणों को बुलाकर श्राद्ध किया। भोजन कराया, दक्षिणा दी। जेठ-जेठानी को सोने-चांदी के बर्तनों में भोजन कराया। इससे पितर बड़े प्रसन्न तथा तृप्त हुए।
आशा है कि आप सभी को यह Pitru Paksh Ki Katha, पितृ पक्ष की पौराणिक कथा का लेख पसंद आया होगा| इस आर्टिकल को अधिक से अधिक फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर करें और आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताये| इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here