Home आरती संग्रह ओम जय जगदीश हरे आरती | Om Jai Jagdish Hare Aarti

ओम जय जगदीश हरे आरती | Om Jai Jagdish Hare Aarti

90
0
SHARE

ओम जय जगदीश हरे आरती | Om Jai Jagdish Hare Aarti

Om Jay Jagdish Hare Aarti, Om Jay Jagdish Hare, Aarti, Arti, ॐ जय जगदीश हरे आरती, ॐ जय जगदीश हरे, आरती, om jai jagdish hare

ओम जय जगदीश हरे आरती (Om Jai Jagdish Hare Aarti)

ओम जय जगदीश हरे , स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनो के संकट , क्षण में दूर करे । ।
ओम जय जगदीश . . . . .

जो ध्यावे फल पावे , दुःख विनशे मन का ।
सुख सम्पति घर आवे, कष्ट मिटे तन का । ।
ओम जय जगदीश . . . . .

मात पिता तुम मेरे , शरण गहुँ में किसकी ।
तुम बिन और न दूजा , आस करूँ जिसकी । ।
ओम जय जगदीश . . . . .

तुम पूरण परमात्मा , तुम अंतर्यामी ।
पार ब्रहम परमेश्वर , तुम सबके स्वामी । ।
ओम जय जगदीश . . . . .

तुम करुणा के सागर , तुम पालन करता ।
मैं मूरख खल कामी , कृपा करो भरता । ।
ओम जय जगदीश . . . . .

तुम हो एक अगोचर , सबके प्राणपति ।
किस विधी मिलूं दयामय , तुमको मैं कुमति । ।
ओम जय जगदीश . . . . .

दीनबन्धु दुःख हरता , तुम रक्षक मेरे ।
अपने हाथ बढाओ , द्वार पड़ा तेरे । ।
ओम जय जगदीश . . . . .

विषय विकार मिटाओ , पाप हरो देवा ।
श्रध्दा भक्ति बढाओ , सन्तन की सेवा । ।
ओम जय जगदीश . . . . .

तन मन धन , सब कुछ हे तेरा ।
तेरा तुझको अर्पण , क्या लागे मेरा । ।
ओम जय जगदीश . . . . .

श्री जगदीश जी की आरती , जो कोई नर गावे ।
कहत शिवानन्द स्वामी , सुख सम्पति पावे । ।
ओम जय जगदीश . . . .

सम्बंधित लेख :

पितर जी की आरतीपार्वती जी की आरती|गणेश जी की आरतीहनुमान जी की आरतीसाई बाबा की आरतीतुलसी जी की आरती | लक्ष्मी जी की आरती श्री राम जी की आरती | श्री सत्यनारायण जी की आरती | शीतला माता की आरती | अम्बे माँ की आरती

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here