Home व्रत और त्यौहार करवा चौथ व्रत की सम्पूर्ण पूजन विधि | Karwa Chauth Puja Vidhi...

करवा चौथ व्रत की सम्पूर्ण पूजन विधि | Karwa Chauth Puja Vidhi in Hindi

722
0
SHARE

करवा चौथ व्रत पूजन विधि (Karwa Chauth Puja Vidhi in Hindi)

karwa chauth puja vidhi in hindi, karwa chauth ki puja kaise kare, karwa chauth ki vidhi, karva chauth ki puja vidhi, karva chauth vrat 2018, karwa chauth 2018, karwa chauth vrat, karwa chauth pujan vidhi, karwa chauth pooja, karwa chauth puja samagri in hindi

करवा चौथ का व्रत सुहागन महिलाओं के लिए बहुत खास होता है| यह व्रत सुहागन महिलायें अपने पति की दीर्घायु के लिए करती है| करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है| यह व्रत सूर्योदय से लेकर चंद्रोदय तक रखा जाता है| सारी स्त्रियाँ निर्जल व निराहार रहकर यह व्रत करती है और शाम को चाँद देखने के बाद ही व्रत का पारण करती है|

करवा चौथ पूजन विधि (Karwa Chauth Puja Vidhi in Hindi) :-

*  करवा चौथ के दिन सूर्योदय से पहले स्नान करके व्रत रखने का संकल्प लें|

*  सास द्वारा भेजी गयी सरगी खाएं| ध्यान रहे सरगी में प्याज, लहसुन से बना खाना न खाएं, फल, मेवा, मिठाई,पूरी अदि खाएं|

सरगी खाने के बाद करवा चौथ का निर्जल और निराहार व्रत शुरू हो जाता है| फिर पार्वती व गणेशजी का ध्यान पुरे दिन करते रहे|

*  शाम के समय शुभ मुहूर्त में करवा चौथ की पूजा करें सर्वप्रथम गेरू या चावल पीसकर दीवार पर करवा धरे या बाजार से करवा चौथ का कलैंडर लाकर दीवार पर चिपका लें|

*  चावल के अपन से चौक बनाये और लकड़ी का पट्टा रखें|

*  मिट्टी और पीतल का करवा रखें इस करवे में थोड़ा जल भर लें और अक्षत, फ़ूल, सिक्का डालकर ढक्कन से ढक दें|

*  ढक्कन में चावल भरकर आठ पुरियों की अठोरी व चावल के लड्डू रखें|

*  करवे की टोटी में चार सीखें लगाए|

*  करवे पर स्वस्तिक बनाकर पट्टे पर स्थापित करें|

*  फिर गणेश, गौरी, शिव, कार्तिक की पूजा करें| जल, रोली, अक्षत, फूल, माला, फ़ूल अर्पित करें|

*  माँ पार्वती को सोलह श्रंगार का सामान अर्पित करें फिर माँ पार्वती को सिन्दूर अर्पित करें|

*  पूजा के बाद श्रंगार का सामान दान कर देना चाहिए लेकिन प्रसाद स्वरुप उसमें से अपने लिए कुछ चूड़ी या बिंदी ले लें|

*  धूप दीप जलाये और करवा चौथ व्रत की कथा सुनें|

*  भगवान गणेशजी की आरती कहे और बाद में शिव पार्वती की आरती बोले इसके बाद सुहाग लें|

*  फिर जब चाँद निकले तो चाँद की पूजा अर्चना करें| चलनी से चाँद को देखने के बाद अपने पति को देखें और चाँद को अरग दें|

*  सास को बायना देकर उनके पैर छूकर आशीर्वाद लें|

*  तत्पश्चात अपने पति के पैर छूकर उनके हाथ से जल ग्रहण करके व्रत का पारण करें|

आशा है कि आप सभी को यह करवा चौथ से सम्बंधित लेख पसंद आया होगा| इस आर्टिकल को अधिक से अधिक फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर करें और आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताये| इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें|

अन्य पढ़े :-

Karwa Chauth 2019 : करवा चौथ व्रत 2019 कब है, पूजा का शुभ मुहूर्त और चाँद निकलने का समय

करवा चौथ पर पत्नी को गलती से भी न दें यह 3 उपहार वरना….

घर में तिजोरी रखे इस दिशा में छप्पर फाड़ कर बरसेगा पैसा

अगर इस दिशा में है घर के कैलेंडर तो तुरंत हटाए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here