Home व्रत और त्यौहार हरतालिका तीज 2020 तारीख, पूजा का शुभ मुहूर्त,नियम,पूजाविधि, Hartalika Teej 2020 Date

हरतालिका तीज 2020 तारीख, पूजा का शुभ मुहूर्त,नियम,पूजाविधि, Hartalika Teej 2020 Date

205
0
SHARE

हरतालिका तीज 2020 तारीख, पूजा का शुभ मुहूर्त,नियम,पूजाविधि, Hartalika Teej 2020 Date

hartalika teej,hartalika teej 2020,hartalika teej 2020 date,hartalika teej 2020 time,teej,हरतालिका तीज,हरतालिका तीज 2020,हरतालिका तीज 2020 डेट,हरतालिका तीज 2020 टाइम,तीज

Hartalika Teej 2020 Date :- हरतालिका तीज हिन्दू धर्म में किए जाने वाले प्रमुख उपवासों में से एक हैं| हरतालिका तीज व्रत को सभी व्रतों में सबसे बड़ा व्रत भी माना जाता हैं| इसे भाद्र पद माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता हैं| सुहागन महिलाओं के लिए इस व्रत का बहुत ही खास महत्व होता हैं| इस व्रत में भगवान शिव, माता पार्वती और गणेश जी की पूजा होती हैं|  इस दिन सुहागन महिलाएं अपने पति की लम्बी आयु के लिए व्रत रखती हैं और भगवान शिव और माँ गौरी से सदा सुहागन का आशीर्वाद मांगती हैं| हरतालिका तीज का व्रत निर्जला और निराहार होता हैं जिसमें महिलाएं रात्रि जागरण करती हैं और व्रत को सम्पूर्ण करती हैं | इस व्रत को कुंवारी लड़कियां भी रखती हैं और माता पार्वती की तरह अच्छा वर प्राप्त करने के लिए, इसलिए जो कुंवारी लड़कियां इस व्रत को रखना चाहती हैं तो रख सकती हैं|

हरतालिका तीज व्रत के नियम (Hartalika Teej Vrat Ke Niyam)

* हरतालिका तीज व्रत को निर्जला और निराहार किया जाता हैं सूर्योदय से लेकर अगले दिन               सूर्योदय तक अन्न जल ग्रहण नहीं किया जाता हैं|

* हरतालिका तीज व्रत करने पर इसे छोड़ा नहीं जाता हैं| प्रत्येक वर्ष इस व्रत को विधि विधान से         करना चाहिए|

* हरतालिका तीज व्रत के दिन रात्रि जागरण किया जाता हैं|

* हरतालिका तीज को कुंवारी कन्याएं और सुहागन महिलाएं करती हैं| इस व्रत में महिलाएं नए वस्त्र धारण कर 16 श्रंगार करती हैं|

हरतालिका तीज व्रत के नियम बहुत ही सख्त हैं| ऐसा माना जाता हैं कि अगर इस व्रत में आपने पानी ग्रहण किया हैं तो अगले जन्म में मछली का जीवन मिलेगा| यदि आपने इस व्रत में फलों का सेवन किया हैं तो अगला जन्म बंदरिया का वही अगर इस दिन सो जाए तो अजगर का जन्म मिलेगा| जो महिला इस व्रत में दूध पीती हैं वह अगले जन्म में सर्पिनी बनती हैं, जो शक्कर खाती हैं वह मक्खी बनती हैं, जो मास खाती हैं वह शेरनी बनती हैं, जो अन्न का सेवन करती हैं वह सुअरी बनती हैं| इसलिए हरतालिका तीज का व्रत पूरे नियम और सयम से करना चाहिए|

हरतालिका तीज पूजा विधि (Hartalika Teej Puja Vidhi)

हरतालिका तीज की पूजा प्रदोष काल में की जाती हैं| पूजन के लिए सबसे पहले मिट्टी से भगवान शिव, माता पार्वती और गणेश जी की प्रतिमा बनाए, उसके बाद उसके बाद फुलेरा बनाकर उसे सजाए| पूजा के समय सुहागन महिलाओं को नए वस्त्र धारण करके सोलह श्रंगार करना चाहिए फिर एक चौकी या पटा रखें और उस पर लाल कपडा बिछाए अब चौकी पर सतिया बनाकर केले का पत्ता रखें, तत्पश्चात तीनों प्रतिमाओं को स्थान दे अब कलश स्थापना करे, एक मुट्ठी पर चावल रखे उसमें स्वस्तिक बनाए कलश के अंदर थोड़ा पानी, हल्दी, सुपारी और सिक्का डाले, फिर आम का पत्ता रख एक चावल भरी कटोरी से ढक दे और उसके ऊपर दीपक जलाए| कलश पूजन के बाद भगवान शिव माता पार्वती और गणेश जी का विधिवत श्रंगार करे, महिलाएं सुहाग का सामान माता गौरी को अर्पित करें भगवान शिव को धोती या गमछा अर्पित करे, विधिवत पूजा अर्चना करने के बाद हरतालिका तीज व्रत की कथा पढ़े उसके बाद आरती करे जिसमें सबसे पहले भगवान गणेश जी की आरती फिर शिवजी की आरती तत्पश्चात माता पार्वती की आरती गाए| पूजा के बाद भगवान की परिक्रमा करके उनका आशीर्वाद ले फिर रात्रि जागरण कर भजन कीर्तन करे| फिर अगले दिन सुबह स्नान करके फिर से पूजा करके माता को सिंदूर चढ़ाया जाता हैं जिसे सुहागन महिलाएं लेती हैं और ककड़ी व हलवे का भोग लगाया जाता हैं जिसके बाद प्रसाद को खाकर व्रत का पारण किया जाता हैं |

हरतालिका तीज शुभ मुहूर्त 2020 (Hartalika Teej Shubh Muhurat 2020)

हरतालिका तीज 2020 (Hartalika Teej 2020 Date) : 21 अगस्त 2020 दिन शुक्रवार

प्रात: काल मुहूर्त : 05:53:44 AM से 08:29:49 AM तक

अवधि : 2 घंटा 36 मिनट

प्रदोष काल मुहूर्त : 06:54:07 PM से 09:06:08 PM तक

तृतीया तिथि का प्रारम्भ : 21 अगस्त 2020 को 02:13 AM बजे से

तृतीया तिथि का समापन : 21 अगस्त 2020 को 11:03 PM बजे तक

आशा है कि आप सभी को यह Hartalika Teej 2020, Hartalika Teej 2020 Date, Hartalika Teej Puja Vidhi & Vrat Katha हरतालिका तीज कब है 2020 का लेख पसंद आया होगा| इस आर्टिकल को अधिक से अधिक फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर करें और आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताये| इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें|

अन्य पढ़े :-

हलषष्ठी, हरछठ व्रत कथा

पूजा में आरती करने की सही विधि, Aarti Kaise Kare

ऋषि पंचमी व्रत 2020 तारीख, पूजा का शुभ मुहूर्त

महाशिवरात्रि 2021 तारीख, पूजा का शुभ मुहूर्त

कजली तीज व्रत कथा, Kajali Teej Vrat Katha

कजरी तीज 2020 तारीख, पूजाविधि, पूजा का शुभ मुहूर्त

हलषष्ठी 2020 तारीख, पूजा का शुभ मुहूर्त

जन्माष्टमी 2020 तारीख, पूजा का शुभ मुहूर्त

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here