Home व्रत और त्यौहार Diwali 2018 Shubh Muhurat, दिवाली पूजन समाग्री, दीपावली पूजा विधि

Diwali 2018 Shubh Muhurat, दिवाली पूजन समाग्री, दीपावली पूजा विधि

352
0
SHARE

Diwali 2018 :-

diwali 2018 shubh muhurat, diwali 2018 datem diwali, deepawali, dipawali, diwali 2018, deepavali 2018, diwali 2018 muhurat, diwali puja muhurat, diwali kab hai, दिवाली पूजन का समय, दिवाली पूजा मुहूर्त, दिवाली, diwali date time

हिन्दू धर्म में दिवाली के त्योहार का विशेष महत्व है| इसे पुरे भारत वर्ष में बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है| यह त्योहार धनतेरस से शुरू होकर भैयादूज पर खत्म होता है| दिवाली का त्योहार कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को मनाया जाता है| इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा का विशेष महत्व है|

दिवाली 2018 कब है :-

साल 2018 में दीपावली का त्योहार 7 नवंबर दिन बुधवार को मनाया जाएगा|

दिवाली 2018 पूजा शुभ मुहूर्त (Diwali 2018 Shubh Muhurat) :-

लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त – शाम 5 बजकर 57 मिनट से लेकर 7 बजकर 57 मिनट तक रहेगा|

प्रदोष काल का शुभ मुहूर्त – शाम 5 बजकर 25 मिनट से लेकर 8 बजकर 06 मिनट तक रहेगा|

अमावस्या तिथि का प्रारम्भ – 6 नवंबर 2018 दिन मंगलवार को रात 10 बजकर 25 मिनट से लेकर

अमावस्या तिथि का समापन – 7 नवंबर 2018 दिन बुधवार को रात 11 बजकर 31 मिनट पर होगा|

पूजा सामग्री:-

रोली, अक्षत, पान, सुपारी, लौंग, इलायची, चन्दन, कपूर, घी, गंगाजल, फूल और माला, फल, मेवा, मिठाई, इत्र, खील, बताशा, धुप, दीपक (तेल व घी से भरे हुए), नारियल, दूर्वा, चौकी, कलश, लाल कपडा, लक्ष्मी -गणेश, चांदी का सिक्का

पूजा विधि :-

दिवाली के दिन शाम के समय शुभ मुहूर्त में लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा की जाती है| ऐसी मान्यता है कि दिवाली की रात माता लक्ष्मी धरती पर स्वयं आती है इसलिए दिवाली के दिन घर को साफ़-सुथरा और प्रकाशवान रखे और घर के मुख्य द्वार पर सुन्दर सी रंगोली बनाये और दियों से सजाये|

गणेश-लक्ष्मी जी की पूजा के साथ इसदिन भगवान कुबेर, विष्णु जी, माता सरस्वती और माँ काली की भी पूजा का विधान है|

सबसे पहले पूजा स्थल और पूजा सामग्री को गंगाजल छिड़ककर शुद्ध कर लें| अब एक लड़की की चौकी लें उसपर लाल कपडा बिछाए तत्पश्चात रोली या हल्दी से उसपर स्वस्तिक बनाये और अब चौकी में गणेश–लक्ष्मी जी की प्रतिमा स्थापित करें और साथ ही एक जल भरा घड़ा भी रखें| इसके बाद भगवान गणेश और माता लक्ष्मी को रोली, अक्षत लगाए, धुप-दीप जलाये, माता लक्ष्मी को कमल का फूल और गुलाब की माला अर्पित करें| गणेश जी को दूर्वा चढ़ाये| इत्र लगाए, फल, मेवा, मिठाई, खील और बताशे अर्पित करके सभी भगवान की विधिवत पूजा-अर्चना करें| तत्पश्चात भगवान गणेश और माता लक्ष्मी जी की आरती करें|

लक्ष्मी पूजन के बाद तिजोरी और बहीखातों का भी पूजन अवश्य करना चाहिए| ये बेहद शुभ होता है| इस तरह दिवाली के दिन पुरे विधि-विधान से पूजा करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होकर आपकी सभी मनोकामना पूरी करती है|

आशा है कि आप सभी को यह लेख पसंद आया होगा| इस आर्टिकल को अधिक से अधिक फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर करें और आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताये| इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें|

अन्य पढ़े :-

Dhanteras 2018 Shubh Muhurat, धनतेरस के दिन खरीददारी और पूजा का शुभ मुहूर्त

मोर पंख के चमत्कारी उपाय जो खोल देगा किस्मत के दरवाजे

सर्दी के मौसम में गुड़ खाने के हैं ये 10 फायदे

घर में तिजोरी रखे इस दिशा में छप्पर फाड़ कर बरसेगा पैसा

अगर इस दिशा में है घर के कैलेंडर तो तुरंत हटाए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here