Home व्रत कथा बछ बारस / गोवत्स द्वादशी की पौराणिक कथा | Bach Baras Story

बछ बारस / गोवत्स द्वादशी की पौराणिक कथा | Bach Baras Story

501
0
SHARE

बछ बारस / गोवत्स द्वादशी की पौराणिक कथा | Bach Baras Story

bach baras, bach baras katha, bach baras ki kahani, bach baras ki katha, bach baras ki katha in hindi, bach baras pata, bach baras puja vidhi, bach baras story, bacha baras vrat, bachh baras katha, bhadrapad dwadashi, dwadashi ki kahani, govatsa dwadashi, govatsa dwadashi kahani, govatsa dwadashi katha, govatsa dwadashi ki kahani, govatsa dwadashi puja process, govatsa dwadashi vrat, govatsa dwadashi vrat katha, govatsa dwadashi vrat pauranik katha, govatsa dwadashi vrat pujan vidhi, govatsa dwadashi vrat vidhi,बछ बारस,गोवत्स द्वादशी की पौराणिक कथा,गोवत्स द्वादशी

Bach Baras Story :- प्राचीन समय में भारत में सुवर्णपुर नामक एक नगर था। वहां देवदानी नाम का राजा राज्य करता था। उसके पास एक गाय और एक भैंस थी।

उनकी दो रानियां थीं, एक का नाम ‘सीता’ और दूसरी का नाम ‘गीता’ था। सीता को भैंस से बड़ा ही लगाव था। वह उससे बहुत नम्र व्यवहार करती थी और उसे अपनी सखी के समान प्यार करती थी।

राजा की दूसरी रानी गीता गाय से सखी-सहेली के समान और बछडे़ से पुत्र समान प्यार और व्यवहार करती थी।

यह देखकर भैंस ने एक दिन रानी सीता से कहा- गाय-बछडा़ होने पर गीता रानी मुझसे ईर्ष्या करती है। इस पर सीता ने कहा- यदि ऐसी बात है, तब मैं सब ठीक कर लूंगी।

सीता ने उसी दिन गाय के बछडे़ को काट कर गेहूं की राशि में दबा दिया। इस घटना के बारे में किसी को कुछ भी पता नहीं चलता। किंतु जब राजा भोजन करने बैठा तभी मांस और रक्त की वर्षा होने लगी। महल में चारों ओर रक्त तथा मांस दिखाई देने लगा। राजा की भोजन की थाली में भी मल-मूत्र आदि की बास आने लगी। यह सब देखकर राजा को बहुत चिंता हुई।

उसी समय आकाशवाणी हुई- ‘हे राजा! तेरी रानी ने गाय के बछडे़ को काटकर गेहूं की राशि में दबा दिया है। इसी कारण यह सब हो रहा है। कल ‘गोवत्स द्वादशी’ है। इसलिए कल अपनी भैंस को नगर से बाहर निकाल दीजिए और गाय तथा बछडे़ की पूजा करें।

इस दिन आप गाय का दूध तथा कटे फलों का भोजन में त्याग करें। इससे आपकी रानी द्वारा किया गया पाप नष्ट हो जाएगा और बछडा़ भी जिंदा हो जाएगा। अत: तभी से गोवत्स द्वादशी के दिन गाय-बछड़े की पूजा करने का ‍महत्व माना गया है तथा गाय और बछड़ों की सेवा की जाती है।

आशा है कि आप सभी को यह बछ बारस / गोवत्स द्वादशी की पौराणिक कथा, Bach Baras Story का लेख पसंद आया होगा| इस आर्टिकल को अधिक से अधिक फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर करें और आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताये| इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें|

अन्य पढ़े :-

श्री वैभव लक्ष्मी व्रत कथा |Shri Vaibhav Laxmi Vrat Katha

गणेश जी की कहानी | Ganesh Ji Ki katha Kahani

Tulsi Vivah Katha | तुलसी विवाह कथा

करवा चौथ व्रत की सम्पूर्ण पूजन विधि

पूजा में आरती करने की सही विधि, Aarti Kaise Kare

अजा एकादशी व्रत कथा | Aja Ekadashi Vrat Katha

Bachh Baras Puja Vidhi : बछ बारस पूजन सामग्री, पूजा व उद्यापन विधि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here