Home व्रत कथा अनंत चतुर्दशी व्रत कथा | Anant Chaturdashi Vrat Katha

अनंत चतुर्दशी व्रत कथा | Anant Chaturdashi Vrat Katha

202
0
SHARE

अनंत चतुर्दशी व्रत कथा | Anant Chaturdashi Vrat Katha 

	Anant Chaturdashi, Anant Chaturdashi Vrat Katha, Anant Chaturdashi Vrat Katha in Hindi, Anant Chaturdashi Vrat Ki Kahani, अनंत चतुर्दशी, अनंत चतुर्दशी व्रत कथा, अनंत चतुर्दशी व्रत की कहानी

Anant Chaturdashi Vrat Katha :- हिन्दू पंचांग के अनुसार अनंत चतुर्दशी का त्यौहार भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है| अनंत चतुर्दशी के दिन अनंत देव की पूजा की जाती है जो भगवान विष्णु का ही रूप माने जाते है| इस व्रत को विपत्ति से उभारने वाला व्रत कहा जाता है| इस पूजा में अनंत सूत्र का विशेष महत्व है, इस दिन भगवान अनंत देव को सूत्र चढ़ाया जाता है और पूजा के बाद उस सूत्र को रक्षासूत्र अथवा अनंत देव के तुल्य मानकर हाथ में धारण किया जाता है| यह सूत्र हर संकट से रक्षा करता है|

Anant Chaturdashi Vrat Katha in Hindi (अनंत चतुर्दशी व्रत कथा)

प्राचीन काल में सुमंत नाम का एक नेक तपस्वी ब्राह्मण था। उसकी पत्नी का नाम दीक्षा था। उसकी एक परम सुंदरी धर्मपरायण तथा ज्योतिर्मयी कन्या थी। जिसका नाम सुशीला था। सुशीला जब बड़ी हुई तो उसकी माता दीक्षा की मृत्यु हो गई।

पत्नी के मरने के बाद सुमंत ने कर्कशा नामक स्त्री से दूसरा विवाह कर लिया। सुशीला का विवाह ब्राह्मण सुमंत ने कौंडिन्य ऋषि के साथ कर दिया। विदाई में कुछ देने की बात पर कर्कशा ने दामाद को कुछ ईंटें और पत्थरों के टुकड़े बांध कर दे दिए।

कौंडिन्य ऋषि दुखी हो अपनी पत्नी को लेकर अपने आश्रम की ओर चल दिए। परंतु रास्ते में ही रात हो गई। वे नदी तट पर संध्या करने लगे।सुशीला के पूछने पर उन्होंने विधिपूर्वक अनंत व्रत की महत्ता बताई। सुशीला ने वहीं उस व्रत का अनुष्ठान किया और चौदह गांठों वाला डोरा हाथ में बांध कर ऋषि कौंडिन्य के पास आ गई।

कौंडिन्य ने सुशीला से डोरे के बारे में पूछा तो उसने सारी बात बता दी। उन्होंने डोरे को तोड़ कर अग्नि में डाल दिया, इससे भगवान अनंत जी का अपमान हुआ। परिणामत: ऋषि कौंडिन्य दुखी रहने लगे। सारी सम्पत्ति नष्ट हो गई। इस दरिद्रता का उन्होंने अपनी पत्नी से कारण पूछा तो सुशीला ने अनंत भगवान का डोरा जलाने की बात कहीं।

पश्चाताप करते हुए ऋषि कौंडिन्य अनंत डोरे की प्राप्ति के लिए वन में चले गए। वन में कई दिनों तक भटकते-भटकते निराश होकर एक दिन भूमि पर गिर पड़े। तब अनंत भगवान प्रकट होकर बोले- ‘हे कौंडिन्य! तुमने मेरा तिरस्कार किया था, उसी से तुम्हें इतना कष्ट भोगना पड़ा। तुम दुखी हुए। अब तुमने पश्चाताप किया है। मैं तुमसे प्रसन्न हूं। अब तुम घर जाकर विधिपूर्वक अनंत व्रत करो। चौदह वर्ष व्रत करने से तुम्हारा दुख दूर हो जाएगा। तुम धन-धान्य से संपन्न हो जाओगे। कौंडिन्य ने वैसा ही किया और उन्हें सारे क्लेशों से मुक्ति मिल गई।

आशा है कि आप सभी को यह अनंत चतुर्दशी व्रत कथा, Anant Chaturdashi Vrat Katha 2020 का लेख पसंद आया होगा| इस आर्टिकल को अधिक से अधिक फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर करें और आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताये| इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें|

अन्य पढ़े :-

पूजा में आरती करने की सही विधि, Aarti Kaise Kare

हरतालिका तीज व्रत कथा | Hartalika Teej Vrat Katha

महालक्ष्मी व्रत कथा | Mahalaxmi Vrat Katha

संतान सप्तमी व्रत कथा | Santan Saptami Vrat Katha

राधाष्टमी व्रत कथा व व्रत विधि | Radha Ashtami Vrat Katha & Vidhi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here