Home ग्रहण 5 July 2020 Chandra Grahan : गुरु पूर्णिमा को लगेगा चंद्रग्रहण, जानें...

5 July 2020 Chandra Grahan : गुरु पूर्णिमा को लगेगा चंद्रग्रहण, जानें सूतक काल का प्रभाव

158
0
SHARE

5 July 2020 Chandra Grahan : गुरु पूर्णिमा को लगेगा चंद्रग्रहण, जानें सूतक काल का प्रभाव

5 July 2020 Chandra Grahan : 5 जुलाई 2020 यानी आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा यानी गुरु पूर्णिमा रविवार को पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र व धनु राशि में यह चंद्रग्रहण सुबह 8:37 बजे से ग्रहण शुरू होगा, जो कि दोपहर 11:22 तक चलेगा। इस चंद्रग्रहण की कुल अवधि लगभग 2 घंटा 43 मिनट रहेगी। यह ग्रहण भारत, ऑस्ट्रेलिया, ईरान, ईरान, रूस, चीन, मंगोलिया तथा भारत के सभी पड़ोसी देशों को छोड़कर सम्पूर्ण विश्व में दिखाई देगा।

चंद्रग्रहण कैसा और किस प्रकार का होगा (Lunar Eclipse 5 July 2020 Timing in India) :-

5 जुलाई 2020 को मान्द्य(छाया कल्प) चंद्र ग्रहण लगेगा। मांद्य का अर्थ है न्यूनतम, यानी मंद होने की क्रिया इसलिए बिल्कुल भी इस चंद्र ग्रहण को लेकर चिन्ता करने की जरूरत नहीं है। इस ग्रहण में कुछ हल्की से चंद्रमा की कांति मलीन हो जाएगी, लेकिन चंद्रमा का कोई भी भाग ग्रहण ग्रस्त नहीं होगा। इसमें चंद्रमा का करीब 90 प्रतिशत भाग धूसर छाया में आ जाएगा। धूसर का अर्थ है मटमैला जैसा हल्की सी धूमिल। इसी मे छाया ग्रह राहु की छाया पड़ेगी नहीं। जब छाया ही नहीं पड़ेगी तो राहु के ग्रसने वाली बात भी नहीं होगी, क्योंकि प्रच्छाया हीन इस किस्म की ग्रहण केवल “उपच्छाया” मात्र है। इसलिए इसको ग्रहण कहने के बजाए चन्द्र उपच्छाया का समय कहना ज्यादा सही होगा।शास्त्रों के नियमानुसार राहु/केतु जब-जब चंद्रमा को ग्रसित करता है तब चन्द्रग्रहण लगता है, व चन्द्रग्रहण के 9 घन्टे पहले सूतक लग जाता है व सूतक व ग्रहण काल में कई नियमो का पालन किया जाता है व सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है ग्रहण पर नहीं लगेगा सूतक, साथ ही खुले रहेंगे मंदिरों के कपाट|दरअसल देखा जाए तो यह कोई चंद्र ग्रहण ही नहीं है, यह तो मात्र उपछाया चंद्र ग्रहण है।

किस राशि में घटित होगा (5 July 2020 Chandra Grahan Effects) :-

इस ग्रहण के दौरान चंद्रमा धनु राशि में होगा और पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में रहेगा। ज्योतिष के अनुसार ग्रहण जिस राशि और नक्षत्र पर लगता है उन राशि और नक्षत्र में जन्मे लोगों पर इसका सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ता है। इस कारण धनु राशि और पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र के लोगों को चंद्र ग्रहण के समय विशेष ध्यान देने की जरूरत पड़ेगी। बेवजह की परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं।

चन्द्र ग्रहण के ग्रहण काल का समय (5 July 2020 Chandra Grahan Timing in India) :-

उपच्छाया से पहला स्पर्श – सुबह 8.38 बजे

परमग्रास चंद्र ग्रहण – सुबह 9.59 बजे

उपच्छाया से अंतिम स्पर्श – दोपहर 11:21 बजे

उपच्छाया की अवधि – 2 घंटे 43 मिनट्स 24 सेकंड

चन्द्र ग्रहण के सूतक काल का समय (5 July 2020 Chandra Grahan Sutak Timing in India) :-

साल का तीसरा चंद्र ग्रहण करीब 3 घंटे के लिए लग रहा है। भारत में इस ग्रहण के नही दिखाई देने की वजह से यहां सूतक काल के नियमों का पालन भी नही होगा। सूतक काल ग्रहण लगने से 9 घंटे पहले शुरू हो जायेगा। इसका शास्त्रीय दृष्टि से कहीं कोई महत्व नही है। इस ग्रहण का “सूतक” बिल्कुल नहीं है। इस किस्म के “मांद्यचंद्र ग्रहण” की कुछ भी धार्मिक मान्यता या महत्व नहीं है। क्योंकि इस दिन किसी भी तरह का सूतक नहीं लगेगा। इस ग्रहण में किसी भी प्रकार का यम, नियम, सूतक आदि मान्य नहीं, अर्थात धार्मिक मान्यता नहीं है। इस उपच्छाया वाले चन्द्रग्रहण नग्न आँखों से नहीं दिखाई पड़ेगा। इसलिये उनका पञ्चाङ्ग में समावेश नहीं होता है। और ऐसे ग्रहण से सम्बन्धित कर्मकाण्ड यानि कोई पूजा पाठ भी नहीं किया जाता है। सच है की– सभी परंपरागत पञ्चाङ्ग केवल “प्रच्छाया वाले चन्द्रग्रहण” को ही सम्मिलित करते हैं।

चंद्रग्रहण के समय गर्भवती महिलाएं बरतें ये सावधानियां (5 July 2020 Chandra Grahan and Pregnant Ladies) :-

चंद्रग्रहण हो या सूर्यग्रहण गर्भवती महिलाओं को इस समय बहुत ही सावधानी रखने कि आवश्यकता होती हैं, ये हैं कुछ सावधानियां जो एक गर्भवती महिला को ग्रहण के समय में रखनी चाहिये :-

  1. गर्भवती महिलाएं चंद्र ग्रहण के समय एक नारियल अपने पास रखें। इससे गर्भवती महिला पर वायुमंडल से निकलने वाली नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव नहीं पड़ेगा।
  2. ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं चाकू, कैंची और सुई का बिल्कुल भी इस्तेमाल न करें। न ही कोई अन्य कार्य करें। ग्रहण से बचने के लिए सिर्फ भगवान की आराधना करें।
  3. ग्रहण के दौरान अन्न जल ग्रहण नहीं करना चाहिए।
  4. सूर्य ग्रहण के दौरान स्नान नहीं करना चाहिए। ग्रहण ख़त्म होने के बाद या इससे पहले स्नान कर लें।
  5. ग्रहण को कभी भी खुली आंख से नहीं देखना चाहिए। इसका आप पर और होने वाले बच्चे की आंख पर बुरा असर पड़ सकता है। बाहरी किरणों को अंदर आने से बचाएं।
  6. ग्रहण के दौरान कुछ भी पकाएं नहीं ग्रहण के समय मंत्रों का जाप किया जा सकता है।

चन्द्र ग्रहण का 12 राशियों पर प्रभाव (5 July 2020 Lunar Eclipse Rashifal) :-

चंद्रग्रहण का राशियों पर ग्रहण का विशेष प्रभाव पड़ता हैं, आइए जानते हैं कि ग्रहण का राशियों पर क्या प्रभाव पड़ता हैं :-

  1. मेष :- आपका भाग्योदय होगा एवं आपको पद-सम्मान की प्राप्ति भी हो सकती हैं।
  2. वृषभ :- आपके जीवन में तनाव उत्पन्न हो सकता हैं।
  3. मिथुन :- आपके जीवन में लाभ व पदोन्नति हो सकती हैं।
  4. कर्क :- आपके शत्रुओ का नाश होगा व आपके समस्त रोग समाप्त होंगे।
  5. सिंह :- आपकी सन्तान की उन्नति हो सकती हैं।
  6. कन्या :- आपके जीवन में परेशानी आ सकती हैं।
  7. तुला :- आपके पदोन्नति के साथ नये काम शुरू हो सकते है।
  8. वृश्चिक :- आपको धन लाभ हो सकता हैं।
  9. धनु :- आपको मानसिक तनाव बढ़ सकता हैं।
  10. मकर :- खर्च की अधिकता हो सकती हैं।
  11. कुंभ :- आपको धन लाभ हो सकता हैं, साथ ही मान-सम्मान व सुख भी मिलेगा।
  12. मीन :- आपकी पदोन्नति हो सकती हैं, साथ ही राज्य सम्मान भी मिलेगा।

आशा है कि आप सभी को 5 जुलाई 2020 (Lunar Eclipse 5 July 2020 Timing in India) को पड़ने वाले  चंद्रग्रहण का यह लेख पसंद आया होगा| इस आर्टिकल को अधिक से अधिक फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर करें और आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताये| इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें|

अन्य पढ़े :-

05 जुलाई 2020 चंद्र ग्रहण, जानें किस समय और कहाँ-कहाँ दिखाई देगा, सम्पूर्ण जानकारी

Grahan 2020 List : साल 2020 में कब और कितने ग्रहण होंगे, पूरी जानकारी

ग्रहण के समय गर्भवती महिलाये क्या करें क्या ना करें

इस दिशा में घड़ी लगाने से होता है भारी नुकसान

2020 रक्षाबंधन तिथि व राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, Raksha Bandhan 2020 Date

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here