Home ग्रहण 26 दिसंबर 2019 को सूर्यग्रहण, सूतक के दौरान क्या करे क्या ना...

26 दिसंबर 2019 को सूर्यग्रहण, सूतक के दौरान क्या करे क्या ना करे, 26 December 2019 Surya Grahan

220
0
SHARE

26 दिसंबर 2019 को सूर्यग्रहण, सूतक के दौरान क्या करे क्या ना करे, 26 December 2019 Surya Grahan

26 december 2019 grahan time, 26 december 2019 surya grahan, 26 december 2019 surya grahan time, 26 दिसंबर 2019 सूर्यग्रहण, dec 2019 solar eclipse time, grahan 2019, solar eclipse 2019, surya grahan, surya grahan 2019, surya grahan 2019 in india, todays grahan time, सूर्यग्रहण 2019

26 December 2019 Surya Grahan :- साल 2019 अपने अंतिम पड़ाव की ओर है। 2019 के खत्म होने के आखिरी दिनों में सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। यह ग्रहण 26 दिसंबर को होगा। ये सूर्य ग्रहण वलयाकार होगा जिसमें सूर्य अंगूठी की तरह दिखेगा। जहां साल के आखिरी दिन में सूर्य ग्रहण लगेगा वहीं नए साल 2020 में 10 जनवरी को ही साल का पहला ग्रहण भी लगेगा। यह ग्रहण चंद्र ग्रहण होगा। चंद्र ग्रहण 10 जनवरी की रात को 10 बजकर 37 मिनट से ग्रहण लगना शुरू हो जाएगा।

वर्ष का तीसरा और अंतिम सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर 2019 को लगेगा। यह वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा, जो भारतीय समयानुसार सुबह 08:17 से लेकर 10: 57 बजे तक रहेगा। यह ग्रहण भारत के साथ पूर्वी यूरोप, एशिया, उत्तरी/पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया और पूर्वी अफ्रीका में दिखाई देगा।

वर्ष 2019 का अंतिम और एक मात्र सूर्य ग्रहण ( Surya Grahan ) भारत में दिखाई देगा, इसलिए यहाँ पर इस ग्रहण का सूतक भी लागू होगा। सूर्य ग्रहण का सूतक काल 25 दिसंबर 2019 को शाम 05:33 से प्रारंभ होकर 26 दिसंबर 2019 को सुबह 10:57 बजे तक रहेगा।

क्या होता है सूतक काल :-

ग्रहण में लगने वाला सूतक एक अशुभ समय होता है। धार्मिक दृष्टि से यह अवधि किसी शुभ कार्य के लिए अच्छी नहीं होती है। अतः इस दौरान शुभ कार्यों को नहीं किया जाता है। यह सूर्य ग्रहण से लगने के चार पहर (एक पहर तीन घंटे के बराबर होता है) पहले से ही लग जाता है और ग्रहण के समाप्ति के साथ ही खत्म होता है। हालांकि सूतक काल वहीं प्रभावी होता है, जहां सूर्य ग्रहण  ( Surya Grahan ) दिखाई देगा।

सूतक काल समाप्त होने पर करें ये कार्य :-

सूतक काल के दौरान सूर्य ग्रह ( Surya Grahan ) के बीज मंत्र का जाप करें। वहीं ग्रहण समाप्त होने के बाद घर में शुद्धता के लिए गंगाजल का छिड़काव करें। स्नान के बाद भगवान की मूर्तियों को स्नान कराएँ और उनकी पूजा करें। ग्रहण समाप्त होने पर ताजा भोजन बनाएं और खाएं। यदि भोजन बना हुआ है तो उसमें तुलसी डाल दें ताकि वह भोजन दूषित न हो। सूर्य ग्रहण के बाद गरीबों को अनाज दान करें।

सूतक काल में न करें ये कार्य :-

सूतक काल में भोजन पकाना और खाना नहीं चाहिए। इस दौरान किसी भी नए कार्य को शुरु नहीं किया जाता है। इसके साथ ही मूर्ति पूजा और मूर्तियों का स्पर्श न करें, न ही तुलसी के पौधे का स्पर्श करें। गर्भवती महिलाओं को चाकू एवं छुरी का प्रयोग नहीं करना चाहिए। क्योंकि इसका सीधा असर गर्भ में पल रहे बच्चे पर होता है। इसके साथ ही उन्हें घर से बाहर न निकलें। सूर्य को नग्न आंखों से न देंखें।

आशा है कि आप सभी को 26 दिसंबर 2019 सूर्य ग्रहण ( Surya Grahan ) का यह लेख पसंद आया होगा| इस आर्टिकल को अधिक से अधिक फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर करें और आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके अवश्य बताये| इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें|

अन्य पढ़े :-

10-11 जनवरी 2020 चंद्र ग्रहण, जानें किस समय और कहाँ दिखाई देगा, सम्पूर्ण जानकारी

ग्रहण के समय गर्भवती महिलाये क्या करें क्या ना करें

पूजा में आरती करने की सही विधि, Aarti Kaise Kare

इस दिशा में घड़ी लगाने से होता है भारी नुकसान

घर में तिजोरी रखे इस दिशा में छप्पर फाड़ कर बरसेगा पैसा

सुहागन महिलायें गलती से भी किसी के साथ शेयर न करें अपनी ये चीजें वरना….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here